Home > विचार मंथन

परिवार के सतर्कता व सावधानी से आत्महत्या को रोका जा सकता है

विश्व आत्महत्या निवारण दिवस (10 सितम्वर) पर विशेष विश्व आत्महत्या निवारण दिवस का उद्देश्य लोगों को आत्महत्या के निवारण के उपायों से अवगत कराना है। कोरोना महामारी के कारण आत्महत्या के विचार एवं प्रयास में वृद्धि देखी जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस वर्ष का नारा दिया है- कार्यवाही

Read More

बुजुर्गों का अनुभव परिवार के संचालन में महत्वपूर्ण है

वृद्धावस्था जीवन चक्र का सबसे चुनौतीपूर्ण व संवेदनशील समयावधि है जिसमें व्यक्ति की क्षमताओं के क्षीण होने से उसे अनेक शारीरिक, मानसिक, सांवेगिक, आर्थिक, सामाजिक व पारिवारिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। भारत में बुजुर्गों की प्रतिष्ठा प्राचीन काल में बहुत अधिक थी। वृद्धजनों को भगवान समान माना जाता

Read More

गुजरते दौर का दर्पण है “समय”

 रहिमन चुप ह्वे बैठिए, देखि दिनन के फेर । जब नीके दिन आइहैं, बनत न लगिहे देर।।        उक्त के अनुसार परिवर्तनशील समय में अच्छे बुरे दोनों प्रकार के दिन जीवन में आते हैं। जब समय अनुकूल होता है तो कार्य सरलता से सम्पन्न हो जाता है। इसी भाव को

Read More

विचार मंथन

किसान आंदोलन को अन्ना हजारे के ‘आखिरी अनशन’ का साथ - तनवीर जाफरी नए कृषि अध्यादेशों के विरुद्ध चलने वाला किसान आंदोलन जैसे जैसे और लम्बा खिंचता जा रहा है वैसे वैसे आंदोलन के पक्ष में जनसमर्थन भी बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में गत 15 जनवरी को कांग्रेस पार्टी

Read More

बिना ओटीपी के अब नही मिलेगा गैस सिलेंडर, 1 नवंबर से लागू हो रहा है नया नियम

नई दिल्ली। आने वाले दिनों में एलपीजी गैस सिलेंडर बिना ओटीपी के ग्राहकों को नहीं मिलेगा। बताया जा रहा है कि अब 1 नवंबर से एलपीजी गैस सिलेंडर की डिलीवरी सिस्टम में बदलाव किए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि जब तक आपके मोबाइल पर एलपीजी गैस सिलेंडर

Read More

राखी पर महासंयोग-शुभ मुहूर्त

पंकज शुक्ला हसनगंज उन्नाव। रक्षाबंधन का त्योहार सावन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार ये त्योहार सावन के आखिरी सोमवार यानी 3 अगस्त को पड़ रहा है। ये रक्षाबंधन बहुत खास होने वाला है क्योंकि इस साल रक्षाबंधन पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान  दीर्घायु का शुभ संयोग बन

Read More

लुप्त होती जा रही है प्रकृति के संग झूला झूलने का आनन्द- नवीन वर्मा

याद आता है वो अपना सुहाना बचपन जब गांव के चौबारे हो या घर के आंगन में लगा नीम का पेड़ सावन का महीना आते ही झूले दिखाई देने लगते थे गांव-मोहल्लों से कजरी के गीत कानों में गूंजने लगते थे नवविवाहित महिलाएं सावन शुरू होते ही अपने हाथों में

Read More

समाजीकरण की कोख में पनपता है भ्रष्टाचार का बीज

मनुष्य एक जैविक प्राणी की भांति इस पृथ्वी पर जन्म लेता है तथा इसके पश्चात ही उसके सीखने की प्रक्रिया का शुभारंभ हो जाता है सीखने की यही प्रक्रिया सामाजिकरण कहलाती है। समाजीकरण ही उसे जैविक प्राणी से एक सामाजिक प्राणी बनाता है। यहीं वह समाज के नैतिक मूल्यों को

Read More

सोशल मीडिया और एक अलग पहचान की तलब

सोशल मीडिया जनसंचार का एक बेहद सशक्त माध्यम है इसके द्वारा लोगों के मध्य एक पारस्परिक अंतरजाल का निर्माण होता है, और इससे जुड़े लोग आपस में एक आभासी समूह निर्मित करते हैं। सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां लोगों को अपनी बात रखने के लिए किसी दूसरे का

Read More

कोरोना महामारी में डिजिटल मीडिया एक वरदान है या अभिशाप

कोरोना महामारी ने तीव्र गति से दौड़ती हुई वैश्विक अर्थव्यवस्था का चक्का जाम कर दिया है। ऐसी स्थिति में हिंदू-मुस्लिम, गरीब-अमीर, किसान, मजदूर, छात्र सभी लॉकडॉउन की वजह से जहां भी थे वहीं रहने को मजबूर हुए। लोगों ने डिजिटल मीडिया जैसे सोशल साइट्स, फेसबुक, व्हाट्सएप आदि माध्यम से अपनों

Read More